होली खेलो नन्दलाल मेरी कुंज गली में खेलो,

भर पिचकारी मेरे माथे उत्ते मारी,
मेरी बिंदिया हो गयी लाल मेरी कुंज गली में खेलो
होली खेलो…….

भर पिचकारी मेरे तन उत्ते मारी
मेरी साड़ी हो गयी लाल मेरी कुंज गली में खेलो
होली खेलो…….

भर पिचकारी मेरे हथा उत्ते मेरी
मेरी चूड़ी हो गयी लाल मेरी कुंज गली में खेलो
होली खेलो……

भर पिचकारी मेरे पैरो पर मारी
मेरी पायल हो गयी लाल मेरी कुंज गली में खेलो
होली खेलो…….

Leave a Reply